सिर्फ एक गलती



Published
This is the story of Abhishek Sharma, who hails from a small village in Jammu and Kashmir. Who used to come from an area from where hardly any IAS officer has become. But he had a dream to join the civil service from the very beginning. He had thought that no matter how much he had to struggle for this, he would not back down. There was only one fear in my mind and that of English. Because Abhishek's English was not so good. And as a result, he failed in the interview even after passing the mains exam twice. Friends, think how sad it is, when the result of years of hard work is like this, only because of not knowing English, they failed. This story is not only of Abhishek, but of many Indians. ये कहानी है जम्मू-कश्मीर के एक छोटे से गांव से तालुक रखने वाले अभिषेक शर्मा की। जो एक ऐसे क्षेत्र से आते थे, जहां से शायद ही कोई आईएएस ऑफिसर बना हो। लेकिन उनका शुरू से ही सिविल सर्विस में जाने का सपना था। उन्होंने सोच रखा था कि इसके लिए चाहे जितना संघर्ष करना पड़े, वो पीछे नहीं हटेंगे। बस मन में एक ही डर था और वो अंग्रेजी का। क्योंकि अभिषेक की इंग्लिश इतनी अच्छी नहीं थी। और इसका नतीजा वो दो बार मेन्स एग्जाम पास करने के बावजूद भी इंटरव्यू में फेल हो गए। दोस्तो सोचिये कितना दुख होता है, जब सालों की मेहनत का नतीज़ा ऐसा हो, सिर्फ इंग्लिश न आने की वजह से वो नाकाम हो गए।ये कहानी सिर्फ अभिषेक की नही, कई भारतीयों की है।



All Type Feelings




Thanks for Watching...




#akhilesh_sharma
#shorts
Category
Job
Be the first to comment